Monday, June 7, 2010

प्रदीप को सलाम

जबलपुर-दमोह के बीच सड़क हादसे में पांच लोगों की मौत हो गयी और आधा दर्जन लोग घायल हो गए.....ये घटना है तो बेहद दुखदायी लेकिन केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन की मानवीयता ने मन को जरूर तसल्ली पहुंचाई.......वैसे प्रदीप जैन निकले तो थे उधार का धर्म करने लेकिन उन्होंने नगद का धर्म करके सचमुच में मानवता का धर्म निभाया.......जैन संत तरुण सागर जी के दर्शन के लिए तेंदुखेडा जा रहे केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन ने जब इस दुर्घटना में घायल लोगों को सड़क तड़पता देखा तो उन्होंने तुरंत अपना काफिला रोक दिया और घायलों को अपनी कार में लेकर जबलपुर रवाना हो गए ताकि उन्हें जल्द से जल्द बेहतर उपचार मिल सके......एक वक्त तो परोपकार करने निकले प्रदीप जैन की खुद की जान पर बन आई जब घायलों को जल्दी अस्पताल पहुँचाने की हड़बड़ी में उनकी कार भी दस फीट गहरे गड्ढे में चली गयी..... प्रदीप जैन को हल्की चोट भी आई लेकिन इससे उनके चहरे पर सिकन तक नहीं आई और पीछे चल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं की कार में घायल को बिठाकर उन्होंने फिर उसी रफ़्तार से दौड़ लगा दी..केंद्रीय मंत्री के प्रयासों से पांच घायलों को जबलपुर लाकर बेहतर इलाज दिया जा सका जिससे उनकी जान बच गयी......लोगों को याद होगा कुछ समय पूर्व तमिलनाडु के एक मंत्री ने सड़क पर तड़पते एक पुलिस अधिकारी की कोई मदद नहीं की थी जिससे उसकी जान चली गयी....तभी तो केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन को सलाम करने का मन करता है...............

3 comments:

माधव said...

touching

Udan Tashtari said...

प्रदीप जी को प्रणाम एवं साधुवाद!!


घटना के बारे में सुनकर दुख हुआ!

vivek kharpate said...

Aise netao ki hi desh ko jarurat hai.pradeep ji ko dil se pranam.